Technology

Intrusion Detection System (IDS) – in Hindi

Intrusion Detection System (आईडीएस) कंप्यूटर सिस्टम और नेटवर्क में अनधिकृत घुसपैठ का पता लगाने के लिए एक प्रणाली है। IDS ऐसे सॉफ्टवेयर और हार्डवेयर का समूह है जिनका प्रयोग अनधिकृत सेंध से बचाओ में किया जाता है। 

एक प्रौद्योगिकी (technology) के रूप में Intrusion का पता लगाने के लिए IDS system नया नहीं है, इसका उपयोग पीढ़ियों के लिए बहुमूल्य संसाधनों का बचाव करने के लिए किया गया है।

Loading...

IDS का concept नया नहीं है। पुराने समय में राजा महाराजा विभिन्न प्रकार से अपने राज्य और अपने महल की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए तरह तरह के उपाय करते थे। उदहारण के तौर पर ऊँची दीवारों को ले लें। अब इसी कांसेप्ट को आईटी में फ़ायरवॉल से compare किया जा सकता है।

उन्होंने पहाड़ियों के शीर्ष पर महल और महलों का निर्माण किया और अवलोकन टावरों के साथ तीक्ष्ण चट्टानों को उनके नीचे भूमि की एक स्पष्ट अवलोकन प्रदान करने के लिए बनाया, जहां वे समय से पहले किसी भी प्रयास में घुसपैठ का पता लगा सकते थे और स्वयं का बचाव कर सकते थे।

घुसपैठ (Intrusion) का पता लगाने में सक्षम होने के लिए व्यक्तियों ने कुत्तों, फ्लड लाइट्स, इलेक्ट्रॉनिक बाड़, और बंद सर्किट टेलीविजन और अन्य सतर्क गैजेट्स का उपयोग किया है।

Loading...

सीधे शब्दों में IDS द्वारा एक व्यक्ति या संस्था उन गैर अधिकृत लोगों का पता लगा सकते हैं जो उनके सिस्टम को बिना अनुमति एक्सेस करना चाहते हैं या करते हैं। ऐसे अनधिकृत लोगों को सामान्य भाषा में चोर या टेक्निकल भाषा में हैकर बोल सकते हैं। हालाँकि हैकर वही हो सकता है जो ऑनलाइन किसी सिस्टम की सिक्योरिटी तोड़े या तोड़ने की कोशिश करे।

Show More
Back to top button